Shayari 1 : शायरी १

अब ज़िंदगी को उसकी आदत सी हो गई है। उसकी आवाज़ अब चाहत सी हो गई है। चला तो था दोस्ती की राह पर मैं ना जाने कब मोहब्बत सी हो गई है। --------- Ab Zindagi Ko Uski Aadat So Ho Gayi Hai. Uski Awaz Ab Chahat Si Ho Gayi Hai. Chala Toh That Dosti … Continue reading Shayari 1 : शायरी १