पर अकेला चल रहा..

छोटे से इस मकान से, घने भरे श्मशान से, हर कब्र को मैं गिन रहा मैं जुगनुओं को सुन रहा है रात का खौफ यूं, मैं मोम सा पिघल रहा पर अकेला चल रहा पर अकेला चल रहा कफ़न की भी क्या जाति है? कितने चले बाराती है? मासूम से क्या छीन रहा मैं साथ … Continue reading पर अकेला चल रहा..

Mere Jaane Ke Baad…

Mere Jaane Ke Baad... Tuti yaari ke fasaane na kehna Maayusi ke naye bahaane na karna Jhoothe kisi gam ki aaad me, Mere ghar ko naye mehkhaane na karna Mere Jaane Ke Baad... Nazron se labon tak ashkon ko aane na dena Shok me chehre ko murzaane na dena Har roz phulon ki narmi mumkin … Continue reading Mere Jaane Ke Baad…