पर अकेला चल रहा..

छोटे से इस मकान से, घने भरे श्मशान से, हर कब्र को मैं गिन रहा मैं जुगनुओं को सुन रहा है रात का खौफ यूं, मैं मोम सा पिघल रहा पर अकेला चल रहा पर अकेला चल रहा कफ़न की भी क्या जाति है? कितने चले बाराती है? मासूम से क्या छीन रहा मैं साथ … Continue reading पर अकेला चल रहा..

Door Behad Door Chalte He..

Nukkad me chai ki chhuski lete Tees saal ki chutti leke Chal Himalay se behte he Door behad door chalte he Sadkon pe bekhauf naachenge Aasmaani jharonkon se jhaakenge Chal aa baarish sa barsate he Door behad door chalte he Kabootar se chitti bhijwana he Khajaana gullak me chhipaana he Chal ghane jungle me bhatkate … Continue reading Door Behad Door Chalte He..